Hasya Kavi Anubhav Sharma

Like us on Facebook

Like us on Facebook
Like Us On Facebook To Get All New Latest Updates To Your Fb Feed!

Search This Blog

Wednesday, 3 October 2018

FB - Kavi Anubhav Sharma Mobile App

FB - Kavi Anubhav Sharma Mobile App

Download Kavi Anubhav Sharma Official Facebook Page Mobile App.





Sunday, 19 August 2018

एक नारा - कवि अनुभव शर्मा


एक नारा

कहा जाता है तिसरा विश्व युद्ध पानी की वजह से ही होगा |
और अब कि स्थिति देखते हुए कहा जा सकता है कि आने वाले दिनों में पानी की कमी इतनी हो जाएगी कि पानी तिजोरी में रखा जाने लगेगा | उसी स्थिति पर आधारित मेरी छोटी सी कविता प्रस्तुत है |

अनुभव शर्मा ने दिया है,
हमे एक नारा|
तुम मुझे खून दो,
हो... हो... हो...
तुम मुझे खून दो,
में दूँगा पानी का प्याला |

तब लोगो ने कहा कि,
हो... हो... हो....
तब लोगो ने कहा कि,
तुम दे दो पानी का प्याला |
चाहे बदले मे ले लो तुम,
हो... हो... हो...
चाहे बदले में ले लो तुम,
खून की रक्तधारा |

Friday, 17 August 2018

अटल गीत - कवि : अनुभव शर्मा


अटल गीत

आज दर्द बड़ा है और मेरा ये दिल छोटा पड़ गया है।
भारत के बाग़ का सबसे बेहतरीन फूल झड़ गया है।

हर सांस आज जख्मी है लफ्ज भी घायल पड़े हैं।
आज बहने से रोको ना नैना भी जिद पर अड़े हैं।

कैसा दुर्भाग्य मेरे देश का कोई तुमसा ना बन पाया।
तुमसी साफ़ सुथरी राजनीति को किसी ने ना अपनाया।

अटल जी हमेशा अटल रहे अपनी अटल बातों पर।
पाकिस्तान को हमेशा रखा इन्होंने अपनी लातों पर।

इतना अंबर भी ना बरसेगा जितनी आँख बरस रही हैं।
मेरे भारत की रूह आज अटल जी के लिए तरस रही है।

मुझे नही लगता कोई इतने बड़े कीर्तिमान को छूलेगा।
हिदुस्तान आपके योगदान को कभी भी नही भूलेगा।

मैं चाहूँगा मेरा जितनी बार जन्म हो आप प्रधानमंत्री हों।
आपकी सुरक्षा में तत्पर हमेशा " अनुभव " जैसा संत्री हो।


 

Monday, 13 August 2018

Kavi Anubhav Sharma (कवि श्री अनुभव शर्मा)

कवि सम्मेलनों के मंच पर अपनी अपनी विधा में कवि अनुभव शर्मा का कोई सानी नहीं है। देश के चुनिंदा मंच संचालकों में अनुभव शर्मा शुमार करते हैं। अनुभव शर्मा देश के उच्चकोटि के कवियों में गिने जाते हैं जिनकी उपस्थिति ही मंच को गरिमा प्रदत्त कर देती है। आइये एक भेंट करते हैं ऐसे शानदार कवि से.…।



Sunday, 12 August 2018

Yaad Rahegi Dosti Humari....

Likh Deta Hoon Kuch Dosto Ke Liye,
Ki Unhe Umar Lag Jaaye Humari.
Par Ek Sawaal Aaj Bhi Hai,
Kal Humare Jaane ke baad Kya,
Yaad Rahegi Dosti Humari.
=> Kavi Anubhav Sharma